Thursday , November 23 2017
Home / अभिनव कृषि

अभिनव कृषि

अभिनव कृषि

एक जमीनी हकीकत, एक किसान परिवार का जीवन.

एक जमीनी हकीकत, एक किसान परिवार का जीवन. क्या उम्मीदें बची हैं ? क्या समाधान है ? मित्रों, राजस्थान के एक किसान परिवार के जीवन को सरल शब्दों में जानिए. आप में से कई तो ऐसे परिवार में आज रह भी रहे होंगे. मान लीजिए कि इस परिवार के पास …

विस्तार से पढ़े»

इस वर्ष जिस समय बुवाई हुई थी, तब तारामीरा का भाव लगभग….

इस वर्ष जिस समय बुवाई हुई थी, तब तारामीरा का भाव लगभग 7 और चने का भाव लगभग 13 हजार रूपये क्विंटल था. आज तारामीरा 3 और चना 4 हजार के भाव में बिक रहा है. किसानों की आमदनी दुगुनी करने में लगे प्रधानमन्त्री की बात को इस तथ्य पर …

विस्तार से पढ़े»

राजस्थान के औसत किसान परिवार की Economics….

राजस्थान के औसत किसान परिवार की Economics. तीस-चालीस वर्ष के एक कार्यकारी जीवन का हिसाब. कष्टों की राह, टूटते सपने. और अभिनव राजस्थान का समाधान. राजस्थान में औसत किसान के पास सरकारी आंकड़ों के हिसाब से 25 बीघा (4 Hactare) जमीन उपलब्ध है. आंकड़े तो यह भी कहते हैं कि …

विस्तार से पढ़े»

अभिनव राजस्थान में एक भी गाय या बैल आवारा घूमता दिखाई नहीं देगा

(अभिनव पशुपालन ) अभिनव राजस्थान में एक भी गाय या बैल आवारा घूमता दिखाई नहीं देगा. एक भी नहीं. लेकिन यह गौशालाओं के भरोसे नहीं होगा. शासन की अपनी व्यवस्था से होगा. राजस्थान का प्रत्येक पालतू जानवर एक productive unit होगा. प्रदेश के छः करोड़ जानवर बहुत बड़ा asset है …

विस्तार से पढ़े»

मौसम की मार से कब टूटता है किसान

मौसम की मार से परेशान किसान इन दिनों क्या कर रहे होंगे ? क्या घर में बैठकर रो रहे होंगे ?  क्या शासन से कोई उम्मीद है उनको ? नहीं जी ! जो ऊपरवाला कष्ट देता है, वह हिम्मत भी सबसे ज्यादा किसान को देता है. और शासन से उनको …

विस्तार से पढ़े»

अभिनव कृषि- अभिनव राजस्थान का एक अभिनव खेत

(और कुछ सूझता ही नहीं- अभिनव राजस्थान के सिवा ) ‘अभिनव राजस्थान’ की ‘अभिनव कृषि’एक बीस बीघा खेत कैसा होगा ?हमारी अभिनव योजना. एक गाँव में दो से पांच करोड़ रूपये का अनुमानित निवेश से. १. योजना उसी गाँव में लागू होगी, जिसके 90 प्रतिशत किसान इसके लिए तैयार होंगे …

विस्तार से पढ़े»

किसानों के लिए कैसा होगा भारत का बजट ? हमारी नजर में.

केन्द्रीय बजट में किसानों को इस वर्ष आठ लाख करोड़ के ऋण. लेकिन ऐसा भी हो सकता था- भारत में छः लाख गाँव हैं. एक गाँव में एक वर्ष में खेती के लिए औसतन एक करोड़ रूपये की जरूरत पूरे गाँव को पड़ती है. इसमें डीजल, बीज, खाद और दवाइयां …

विस्तार से पढ़े»

अकाल की कोई संभावना नहीं है, अगर.

अच्छी बारिश होने वाली है.अकाल की कोई संभावना नहीं है.अगर.अगर हम हर खेत और छत में बरसी बूंदों को सहेज लें.अगर हम सहेजे पानी से तक खेत की सींच लें जब अगली बारिश न हो या देर से हो. अगर हम अपने खेत की मिट्टी को टेस्ट करवाकर कम पानी में …

विस्तार से पढ़े»

कृषि उपज मंडी समिति क्या अपना अर्थ खो चुकी है

किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने में नाकामयाब कैसे हो रही है ? आप किसी जागरूक किसान से पूछिए कि कृषि उपज मंडी समिति क्या काम करती है. क्यों इन समितियों का गठन किया गया था ? शायद अधिकतर किसान और अन्य जागरूक नागरिक इस सवाल का ठीक …

विस्तार से पढ़े»

बाजरा-मक्का-ज्वार खाइए

राजस्थान को स्वस्थ और समृद्ध बनाइये कई चीजें हमारे जीवन में क्यों हैं, इसका कोई पुख्ता कारण नहीं होता है. बस हम यूँ ही आदतन उनसे चिपके  रहते हैं. चिपके इसलिए रहते हैं क्योंकि हमसे पहले के लोग भी ऐसा करते थे. वैसे भी हम जीवन को हलके में लेते हैं, …

विस्तार से पढ़े»