Friday , April 20 2018
Home / बढ़ते कदम

बढ़ते कदम

बढ़ते कदम

जज्बा और जूनून, चुनाव के लिए, अभिनव राजस्थान तैयार. लेकिन……

जज्बा और जूनून, चुनाव के लिए, अभिनव राजस्थान तैयार. लेकिन सकारात्मकता. रचनात्मकता होंगे हमारे मंत्र. हमारे इन अग्रजों का शुक्रिया. आगाज करने के लिए. इस पीढ़ी के लिए, अगली पीढ़ी के लिए. एस.एस.शर्मा जी (बीकानेर), एडवोकेट सुजाता शर्मा जी (जयपुर), वरिष्ठ पत्रकार नारायण बारहठ जी , महेंद्र सिंह सिद्धू जी …

विस्तार से पढ़े»

अभिनव राजस्थान अभियान की अब तक की क्या खास उपलब्धि रही है ?

अभिनव राजस्थान अभियान की अब तक की क्या खास उपलब्धि रही है ? क्या हम यूं ही हल्ला गुल्ला ही तो नहीं कर रहे हैं ? 2009 से अब तक क्या हुआ है अभियान में और आगे क्या संभावना है ? एकदम खरी खरी सुन लीजिये, विनम्रता से. मित्रों, शुभचिंतकों, …

विस्तार से पढ़े»

‘अभिनव सन्देश’ अब राजस्थान में जनता का सीधा शासन होगा, 25 जून से.

‘अभिनव सन्देश’ अब राजस्थान में जनता का सीधा शासन होगा, 25 जून से. नागौर जिले से शुरुआत होगी, इस अभियान की. सम्मेलन के माध्यम से. एक साथ दो सौ आवेदन होंगे सूचना के अधिकार से . हर विभाग का काम और उसकी प्रगति जानने के लिए . भारत की संसद …

विस्तार से पढ़े»

अभिनव राजस्थान के बढ़ते कदम

कई मित्रों को लगता है कि अभिनव राजस्थान अभियान को राजस्थान में जन जन तक पहुंचाने के लिए कोई ‘चमत्कार’ करना चाहिए ! ऐसा क्या कि कोई आरोप नहीं, कोई धरना नहीं, कोई भीड़ नहीं, किसी अधिकारी को जेल नहीं भिजवाया. फिर क्यों पब्लिक आपको कुछ मानेगी ! मित्रों, हमें …

विस्तार से पढ़े»

बढ़ते कदम (अभिनव राजस्थान अभियान का जयपुर सम्मेलन -25 दिसम्बर 2016)

अभिनव सम्मान 1. सरे नाथानिया गोचर, बीकानेर- गोचर विकास के लिए 2.. RAS अधिकारी मुरारी लाल शर्मा – सार्थक रक्तदान के लिए 3. 50 Villagers, Barmer-  जरूरतमंद प्रतिभावानों की शिक्षा के लिए

विस्तार से पढ़े»

क्या हम चुनाव में भाग लेंगे ?

क्या हम चुनाव में भाग लेंगे ? हाँ. अगर हम अपनी योजना और मुद्दों के पक्ष में राजस्थान के कम से कम एक लाख लोगों को तैयार कर सकें. इतना जनमत तो समर्थन में होना चाहिए. शुरुआत के लिए. हाँ. अगर हम राजस्थान में कम से कम एक हजार ‘लोक …

विस्तार से पढ़े»

अब तक अभिनव राजस्थान अभियान की यात्रा. क्या पाया, कितना पाया, कहाँ पहुंचे ?

अब तक अभिनव राजस्थान अभियान की यात्रा. क्या पाया, कितना पाया, कहाँ पहुंचे ? एक संक्षिप्त विवरण. मित्रों के लिए और शुभचिंतकों के लिए. ताकि तसल्ली हो. आलोचकों के लिए भी. (निंदकों के लिए नहीं !) 2010 में हमने अभिनव राजस्थान पुस्तक का पहला संस्करण लिखा था. 2011 में हमने …

विस्तार से पढ़े»